क्रिप्टोकरेंसी क्या है और यह कैसे काम करती है?

क्रिप्टोकरेंसी एक डिजिटल पेमेंट सिस्टम है जो ट्रांसेक्शन को वेरीफाई करने के लिए बैंकों पर निर्भर नहीं होती है। यह एक पीयर-टू-पीयर प्रोग्राम है जो किसी को भी कहीं भी पेमेंट्स को भेज सकता है और साथ ही प्राप्त भी कर सकता है।

क्रिप्टोकरेंसी आपको सामान और सेवाएँ खरीदने, ऐप्स और गेम का उपयोग करने या लाभ के लिए उनका व्यापार करने देती है।

क्रिप्टोकरेंसी कई नामों से आती है। आपने शायद कुछ सबसे लोकप्रिय प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी जैसे बिटकॉइन, लाइटकॉइन और एथेरियम के बारे में पढ़ा होगा। ऑनलाइन भुगतान के लिए क्रिप्टोकरेंसी तेजी से लोकप्रिय विकल्प बन रही है इसलिए आपको समझना चाहिए कि क्रिप्टोकरेंसी क्या हैं, क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग करने में क्या जोखिम हैं यहां हम जानेगे कि क्रिप्टोकरेंसी क्या है और यह कैसे काम करती है।

क्रिप्टोकरेंसी क्या है?

यह एक डिजिटल पेमेंट सिस्टम है जो ट्रांसेक्शन को वेरीफाई करने के लिए बैंकों पर निर्भर नहीं होती है। यह एक पीयर-टू-पीयर प्रोग्राम है जो किसी को भी कहीं भी पेमेंट्स को भेज सकता है और साथ ही प्राप्त भी कर सकता है। वास्तविक दुनिया में क्रिप्टोकरेंसी  के व्यापार और कारोबार के बजाय, क्रिप्टोक्यूरेंसी पेमेंट्स  ऑनलाइन वेबसाइट पर डिजिटल डिपोसिट के रूप में मौजूद है जो एक स्पेसिफिक ट्रांसेक्शन का वर्णन करता है। जब आप क्रिप्टोक्यूरेंसी फंड ट्रांसफर करते हैं, तो ट्रांसेक्शन एक सार्वजनिक बुक में दर्ज किया जाता है। क्रिप्टोकरेंसी को डिजिटल वॉलेट में स्टोर किया जाता है।

क्रिप्टोकरेंसी को इसका नाम इसलिए मिला क्योंकि यह ट्रांसेक्शन को वेरीफाई  करने के लिए एन्क्रिप्शन का उपयोग करती है। मतलब कि एन्कोडिंग वॉलेट और सार्वजनिक खातों के बीच यह करेंसी डेटा को स्टोर और ट्रांसमिट करने में काम आती है। एन्क्रिप्शन का उद्देश्य सुरक्षा प्रदान करना है।

साथ ही आपको यह भी बता दें कि दुनिया की पहली क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन थी, जिसे 2009 में स्थापित किया गया था और आज भी यह सबसे प्रसिद्ध है।

आइये अब जानते हैं कि यह कैसे काम करती है?

क्रिप्टोकरेंसी एक सार्वजनिक बहीखाता पर चलती है जिसे ब्लॉकचेन कहा जाता है, ब्लॉकचेन करेंसी होल्डर्स द्वार रखे गए या किये गए सभी ट्रांसेक्शन के रिकॉर्ड रखता है।

यह करेंसी यूनिट्स माइनिंग नामक प्रक्रिया द्वारा बनाई जाती हैं, जिसमें कोइन्स जनरेट  करने वाली कॉम्प्लेक्स मैथ्स की समस्याओं को हल करने के लिए कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है। यूज़र्स व्यापारियों से कोइन्स भी खरीद सकते हैं, और फिर क्रिप्टोग्राफ़िक वॉलेट का उपयोग करके उन्हें स्टोर और यूज़ कर सकते हैं।

यदि आपके पास क्रिप्टोकरेंसी है, तो आपके पास कुछ भी टैंजिबल(जिसे छू सकते हैं ) नहीं है। ये वह कुंजी है जो आपको किसी तीसरी पार्टी के बिना रिकॉर्ड या मेज़रमेंट की यूनिट को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक ले जाने की अनुमति देती है। इस करेंसी को सरकार या केंद्रीय नियामक अधिकारियों द्वारा नियंत्रित नहीं किया जाता है। क्रिप्टोकरेंसी विभिन्न ब्रांड या प्रकार के सिक्कों का उपयोग करके बैंकिंग सिस्टम के बाहर काम करती है – जिसमें एक बिटकॉइन प्रमुख खिलाड़ी है।

बिटकॉइन, क्रिप्टोकरेंसी का एक प्रसिद्ध उदाहरण है जिसे मुख्य रूप से पैसे के रूप में सेवा देने के उद्देश्य से बनाया गया था। एथेरियम जैसे आधुनिक ब्लॉकचेन, डेवलपर्स को डीसेंट्रलाईज़ड नेटवर्क पर स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट (कोड) चलाने की अनुमति देते हैं, जिससे वे और एफ्फिसिएंट हो जाते हैं। यह तकनीक एनएफटी (नॉन-फंगिबल टोकन) के निर्माण की भी अनुमति देती है।

क्रिप्टोकरेंसी के उदहारण:

क्रिप्टोकरेंसी के उदहारण

बिटकॉइन (Bitcoin)

2009 में स्थापित, बिटकॉइन पहली क्रिप्टोकरेंसी थी और अभी भी इसका सबसे अधिक कारोबार होता है। करेंसी का विकास सातोशी नाकामोटो द्वारा किया गया था। ऐसा माना जाता है कि यह किसी व्यक्ति या लोगों के समूह का झूठा नाम है, जिनकी अभी सही पहचान नहीं हुई है।

एथेरियम (Ethereum)

2015 में विकसित, एथेरियम एक ब्लॉकचेन प्लेटफ़ॉर्म है जिसकी अपनी डिजिटल करेंसी है, जिसे ईथर (ETH) या एथेरियम कहा जाता है। बिटकॉइन के बाद यह सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी है।

लिटेकोईन (Litecoin)

यह करेंसी बिटकॉइन के समान है, लेकिन अधिक ट्रांसेक्शन्स की अनुमति देने के लिए तेज़ पेमेंट के साथ नए इन्नोवेशंस को विकसित करने के लिए और अधिक तेजी से आगे बढ़ रही है।

रिप्पल (Ripple)

रिप्पल एक डिस्ट्रिब्यूटेड बहीखाता सिस्टम है जिसे 2012 में स्थापित किया गया था। रिप्पल का उपयोग केवल क्रिप्टोकरेंसी ही नहीं, बल्कि विभिन्न प्रकार के लेनदेन को ट्रैक करने के लिए किया जा सकता है।

आइये जानते है कि क्या डिजिटल करेंसी में इन्वेस्ट करना चाहिए?

क्रिप्टोकरेंसी में व्यापार करने के कई फायदे हैं, और काफी हद तक नुकसान भी हैं। यहां हम आपको बताने वाले है ऐसे तीन कारण दिए गए हैं जो डिजिटल करेंसी के पक्ष और विपक्ष में काम करते हैं।

लाभ:

यह निजी और सुरक्षित हैं: वर्चुअल डिजिटल एसेट्स को बढ़ावा देने वाली ब्लॉकचेन तकनीक यूजर की गुमनामी सुनिश्चित करती है। यह क्रिप्टोग्राफी के माध्यम से उच्च स्तर की सुरक्षा का भी आश्वासन देता है, जिस पर हमने पहले चर्चा की थी।

यह डीसेंट्रलाईज़ड, अपरिवर्तनीय और पारदर्शी हैं: पूरा सिस्टम शेयर्ड ओनरशिप पर कार्य करता है, जहां डेटा सभी अनुमति प्राप्त सदस्यों के लिए उपलब्ध है और छेड़छाड़-प्रूफ है।

यह महंगाई के खिलाफ बचाव हैं: महंगाई के समय में वर्चुअल डिजिटल एसेट्स एक बेहतरीन इन्वेस्टमेंट है। उदाहरण के लिए, इन्वेस्टर्स अक्सर क्रिप्टोकरेंसी की तुलना सोने से करते हैं। इसके पीछे एक कारण यह है कि, सोने की तरह इसकी भी सप्लाई लिमिटेड है, क्योंकि किसी भी प्रकार के क्रिप्टो टोकन की माइनिंग पर एक सीमा है।

नुकसान:

इन्हे अभी भी व्यापक रूप से अपनाया नहीं गया है: ये एक नया कांसेप्ट हैं और इसकी अभी भी लॉन्ग टर्म स्टेबिलिटी देखी जानी बाकी है।

ये उच्च जोखिमों से ग्रस्त हैं: कहने की जरूरत नहीं है, ये करेंसी जोखिमों के साथ-साथ कई रिवार्ड्स भी लाती है। उनकी अत्यधिक अस्थिरता और सट्टा प्रकृति उन्हें तीव्र गिरावट की ओर बढ़ाती है। क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करना कई कारणों से जोखिम भरा हो सकता है। इसके पीछे एक प्रमुख कारण यह भी हो सकता है कि डिजिटल करेंसी का कोई अंतर्निहित मूल्य नहीं है। एक सप्लाई-डिमांड का बैलेंस है जिसका उपयोग बिटकॉइन जैसे क्रिप्टो की वैल्यू को निर्धारित करने के लिए किया जाता है।

स्केलेबिलिटी एक समस्या है: यह एक जटिल मुद्दा है, जिसका ब्लॉकचेन के टेक्नोलॉजी से अधिक लेना-देना है। सीधे शब्दों में कहें तो, ब्लॉकचेन की सुस्त प्रकृति के कारण लेन-देन में देरी होने का खतरा भी रहता है। आधुनिक समय की इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट तकनीकों की तुलना में क्रिप्टो पेमेंट को अक्षम बनाने की टेन्डेन्सी है। 

निष्कर्ष

क्रिप्टो में निवेश करने से पहले एक बात स्पष्ट रूप से सबके ध्यान में होनी चाहिए की किसी के लिए भी पर्याप्त रिसर्च किए बिना इसमें निवेश करना उचित नहीं है।

क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करना कोई नई बात नहीं है। लेकिन हाल ही में लोकप्रियता और मूल्य में वृद्धि के साथ-साथ बैंक जमा पर रिटर्न में गिरावट के साथ, अधिक लोग क्रिप्टोकरेंसी सलाह की तलाश कर रहे हैं। क्रिप्टोकरेंसी अत्यधिक अस्थिर होती है, इसलिए छोटे से शुरुआत करने और अपने निवेश में विविधता लाने की सलाह दी जाती है। यदि आप शुरू में विशेषज्ञ की सलाह पर भरोसा करते हैं और विषय पर रिसर्च करके धीरे-धीरे अपनी विशेषज्ञता बढ़ाते हैं तो इससे मदद मिलती है। इस प्रकार के रिसर्च के सफल होने के लिए, क्रिप्टोकरेंसी पर अपने देश की ऐतिहासिक और वर्तमान नीतियों की समझ विकसित करना भी महत्वपूर्ण है।

क्रिप्टोकरेंसी से संबंधित और भी जानकारी के लिए , Suncrypto Academy पर जाएं।

डिस्क्लेमर: क्रिप्टो उत्पाद और एनएफटी अनियमित हैं और अत्यधिक जोखिम भरे हो सकते हैं। ऐसे लेनदेन से होने वाले किसी भी नुकसान के लिए कोई नियामक सहारा नहीं हो सकता है। प्रदान की गई सभी सामग्री केवल सूचनात्मक उद्देश्यों के लिए है, और निवेश सलाह के रूप में इस पर भरोसा नहीं किया जाएगा। हम आपको सलाह देते हैं कि कोई भी निवेश निर्णय लेने से पहले कृपया स्वयं शोध करें या किसी विशेषज्ञ से परामर्श लें।

Leave a Comment

Related Posts

Cryptocurrency scams: क्रिप्टो निवेश में सतर्कता के कदम

Cryptocurrency scams सदैव विकसित होते रहते हैं, क्रिप्टोकोर्रेंसी स्कैमर्स चालाक रणनीतियों और आकर्षक भाषा के

bitcoin-etfs

Bitcoin ETFs 2024: फंड्स के आने और जाने का बिटकॉइन के दामों पर कैसा असर?

Bitcoin ETFs: बिटकॉइन कीमतों पर फंड्स के प्रवाह और निकास का प्रभाव समझना ।  डिजिटल एसेट्स के

bitcoin-halving

4th Bitcoin Halving का माइनर्स पर प्रभाव: चुनौतियां और अवसर |

चौथे Bitcoin Halving घटना ने माइनर्स के लिए इसके प्रभाव पर चर्चा और अनुमानों को