जानिए क्या है ब्लॉकचेन और यह कैसे काम करता है?

ब्लॉकचेन एक ऐसा खाता जहाँ आपके क्रेडिट्स और डेबिट्स की एंट्री एक सीरीज में अपडेट रहती है। चाहे पीयर-टू-पीयर लेनदेन हो या डिजिटल परिसंपत्तियों के नए रूप बनाना, ब्लॉकचेन तकनीक संभावनाओं की दुनिया खोलती है।

ब्लॉकचेन तकनीक सुनने में एक दम भारी भरकम सा शब्द है लेकिन इसकी कुछ प्रमुख विशेषताओं को समझने से आपको यह पूरा समझ आ जायेगा। 

ब्लॉकचेन प्रतिभागियों के नेटवर्क पर साझा किया जाने वाला एक सुरक्षित डेटाबेस है, आप सोचते होंगे कि सभी ब्लॉकचेन बिटकॉइन की तरह सुरक्षित हैं, या शायद सभी ब्लॉकचेन एथेरियम की तरह सक्षम हैं। हालाँकि, वास्तव में, ब्लॉकचेन नेटवर्क में भारी अंतर हैं। यह एक डेटाबेस तकनीक है जो लगभग सभी क्रिप्टोकरेंसी के केंद्र में है।

लेकिन ये सब तकनीकी पहलुओं में उतरने से पहले इसको थोड़ा अच्छे से जान लेते हैं। 

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है?

ब्लॉकचेन एक ऐसा खाता जहाँ आपके क्रेडिट्स और डेबिट्स की एंट्री एक सीरीज में अपडेट रहती है। यह कई सारी चेन से मिलकर बना एक डेटाबेस है जो कि ब्लॉक में जानकारी जमा करके रखता है। अब आप सोचेंगे ये डेटाबेस क्या होता है तो आपको बता देते है कि  डेटाबेस काफी सारी जानकारी का एक कलेक्शन है जिसे हमारा सिस्टम इलेक्ट्रानिकली जमा करके रखता है। 

ब्लॉकचेन का मुख्या काम ही डिजिटल जानकारी को रिकॉर्ड कर के आसानी से लोगो तक पहुचना है। लेकिन इसके साथ ही आपका यह जानना भी बहुत ज़रूरी है कि एक बार जो जानकारी इसमें जमा हो गई उसके बाद उसको वापस बदला नहीं जा सकता और यह किसी एक व्यक्ति या संस्था के कंट्रोल में नहीं होती जो कि इसको सबसे अलग बनाती है।

ब्लॉकचेन इतना महत्वपूर्ण क्यों है?

  1. ब्लॉकचेन बनाने का मुख्या कारण है ट्रांसैक्शंस को यूज़र्स के लिए पारदर्शी बनाना ताकि लेन देन में कोई फ्रॉड न हो सके।
  2. ब्लॉकचेन हमें गारेंटी प्रदान करवाता है कि हमारा ट्रांसैक्शन सिर्फ मेन रजिस्टर में रिकॉर्ड नहीं किया जा रहा बल्कि उस नेटवर्क के सारे डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम में रिकॉर्ड होगा और उसके बाद ही ट्रांसैक्शन वैलिड माना जायेगा।
  3. ब्लॉकचेन सरकार के हाथों से कर्रेंसी की वैल्यू को कंट्रोल करने की क्ष्य्मता को लोगों के हाथों में बाँट देता है
  4. ब्लॉकचैन हमें मिडलमेन से भी बचाता है जिससे कि फ्री ढंग से एसेट का एक्सचेंज हो सकता है। 
  5. ब्लॉकचैन बेस्ड सिस्टम्स में अब इंटरमीडियरी रखने की जरुरत नहीं है इसमें आसानी से रिकॉर्ड और एसेट्स के ट्रांसफर का ध्यान रखा जा सकता है. जिससे ट्रांसेक्शन स्पीड बड़ जाती है।

ब्लॉकचेन के नुक्सान

  1. ब्लॉकचेन का इस्तेमाल थोड़ा महंगा है क्योंकि इसके इस्तेमाल के लिए नेटवर्क की फीस देनी पड़ती है।
  2. ब्लॉकचेन के प्लेटफॉर्म्स बाकी और प्लेटफॉर्म्स के मायने में ज्यादा बिजली इस्तेमाल करते है।
  3. ब्लॉकचेन ईम्यूटेब्ल है अगर इसमें एक बार जो जानकारी जमा हो गई उसके बाद उसको वापस बदला नहीं जा सकता।

आइये जानते है कि आखिर ब्लॉकचैन किस तरीके से काम करती है ?

ब्लॉकचेन एक डिजिटल बहीखाता है जो छेड़छाड़-रोधी तरीके से दो पक्षों के बीच ट्रांसेक्शन को सुरक्षित रूप से रिकॉर्ड करता है। ये ट्रांसेक्शन डेटा स्पेशल कंप्यूटरस के ग्लोबल डिस्ट्रिब्यूटेड नेटवर्क द्वारा रिकॉर्ड किया जाता है जिन्हें नोड्स कहा जाता है।

जब कोई यूजर ट्रांसेक्शन शुरू करता है, जैसे किसी अन्य यूजर को एक निश्चित मात्रा में क्रिप्टोकरेंसी भेजना, तो वह ट्रांसेक्शन नेटवर्क पर प्रसारित होता है। प्रत्येक नोड डिजिटल सिग्नेचर्स और अन्य ट्रांसेक्शन डेटा को वेरिफाय करके ट्रांसेक्शन को वेरिफाय करता है।

एक बार ट्रांसेक्शन वेरिफाय हो जाने पर, इसे अन्य वेरिफाईड ट्रान्सेक्शन के साथ एक ब्लॉक में जोड़ दिया जाता है। ब्लॉकचेन बनाने के लिए क्रिप्टोग्राफ़िक तरीकों का उपयोग करके ब्लॉकों को एक साथ जोड़ा जाता है। ट्रांसेक्शन्स को वेरिफाय करने और उन्हें इसमें जोड़ने की प्रक्रिया एक कंसेंसस मैकेनिज्म के माध्यम से की जाती है। कंसेंसस मैकेनिज्म एक नियमों का सेट है जो कि नेटवर्क पर नोड्स ब्लॉकचेन की स्थिति नियंत्रित करता है।

ब्लॉकचेन का उपयोग किस लिए किया जाता है?

जबकि ब्लॉकचेन तकनीक अभी भी अपनी प्रारंभिक अवस्था में है, कई अलग-अलग सेक्टर्स में इसके उपयोग के मामले पहले से ही मौजूद हैं। इस टेक्नोलॉजी के कुछ सबसे कॉमन उपयोग में शामिल हैं:

uses of Blockchain

  1. क्रिप्टोकरेंसी:- क्रिप्टोकरेंसी के निर्माण का समर्थन करने के लिए यह तकनीक विकसित की गई थी, जो ट्रांसेक्शन्स को रिकॉर्ड करने के लिए इस को एक सुरक्षित बहीखाता के रूप में उपयोग करती है।
  2. डिजिटल पहचान:- ब्लॉकचेन का उपयोग सुरक्षित और छेड़छाड़ रहित डिजिटल पहचान बनाने के लिए किया जा सकता है जिसका उपयोग पर्सनल इनफार्मेशन और अन्य सेंसिटिव डेटा को वेरीफाय करने के लिए किया जा सकता है।
  3. मतदान:- डाले गए सभी वोटों का एक छेड़छाड़-प्रूफ बही-खाता प्रदान करके, यह तकनीक का उपयोग एक सुरक्षित और पारदर्शी मतदान सिस्टम बनाने के लिए किया जा सकता है जो मतदाता धोखाधड़ी की संभावना को समाप्त करता है और मतदान प्रक्रिया की इंटीग्रिटी को सुनिश्चित करता है।
  4. सप्लाई चेन मैनेजमेंट:- ब्लॉकचेन तकनीक का उपयोग सप्लाई चेन के भीतर सभी लेनदेन का खाता बनाने के लिए किया जा सकता है। प्रत्येक लेन-देन को इस पर एक ब्लॉक के रूप में रिकॉर्ड किया जा सकता है, जिससे सप्लाई चेन प्रोसेस का एक इम्यूटेब्ल और पारदर्शी रिकॉर्ड बनता है।
  5. स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट्स:- स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट्स सेल्फ एक्सेक्यूटिंग कॉन्ट्रैक्ट्स हैं जिन्हें कुछ शर्तों के पूरा होने पर ऑटोमेटिकली एक्सेक्यूट होने के लिए प्रोग्राम किया जा सकता है। यह तकनीक सुरक्षित और डिसेंट्रलाइज़्ड तरीके से स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट्स के क्रिएशन और एक्सेक्युशन को सक्षम बनाती है। स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट्स के सबसे प्रोमिसिंग कॉन्ट्रैक्ट्स  में से एक डिसेंट्रलाइज़्ड ऍप्लिकेशन्स (dApps) और ओर्गनइजेशन्स  (DAOs)  लिए है।
सारांश

ब्लॉकचेन तकनीक लेनदेन को रिकॉर्ड करने और डेटा संग्रहीत करने का एक सुरक्षित और पारदर्शी तरीका प्रदान करती है। इसमें डिजिटल दुनिया में विश्वास और सुरक्षा का एक नया स्तर लाकर इंडस्ट्रीज़ में क्रांति लाने की क्षमता है।

चाहे पीयर-टू-पीयर लेनदेन को सक्षम करना हो या डिजिटल परिसंपत्तियों के नए रूप बनाना हो, यह तकनीक संभावनाओं की दुनिया खोलती है। जैसे-जैसे तकनीक विकसित हो रही है और व्यापक रूप से अपनाई जा रही है, हम उम्मीद कर सकते हैं कि आने वाले वर्षों में और अधिक नवीन और परिवर्तनकारी उपयोग के मामले सामने आएंगे।

ब्लॉकचैन और क्रिप्टोकोर्रेंसी से सम्बिधित और भी जानकारी के लिए , Suncrypto Academy पर जाएं।

डिस्क्लेमर: क्रिप्टो उत्पाद और एनएफटी अनियमित हैं और अत्यधिक जोखिम भरे हो सकते हैं। ऐसे लेनदेन से होने वाले किसी भी नुकसान के लिए कोई नियामक सहारा नहीं हो सकता है। प्रदान की गई सभी सामग्री केवल सूचनात्मक उद्देश्यों के लिए है, और निवेश सलाह के रूप में इस पर भरोसा नहीं किया जाएगा। हम आपको सलाह देते हैं कि कोई भी निवेश निर्णय लेने से पहले कृपया स्वयं शोध करें या किसी विशेषज्ञ से परामर्श लें।

Leave a Comment

Related Posts

Cryptocurrency scams: क्रिप्टो निवेश में सतर्कता के कदम

Cryptocurrency scams सदैव विकसित होते रहते हैं, क्रिप्टोकोर्रेंसी स्कैमर्स चालाक रणनीतियों और आकर्षक भाषा के

bitcoin-etfs

Bitcoin ETFs 2024: फंड्स के आने और जाने का बिटकॉइन के दामों पर कैसा असर?

Bitcoin ETFs: बिटकॉइन कीमतों पर फंड्स के प्रवाह और निकास का प्रभाव समझना ।  डिजिटल एसेट्स के

bitcoin-halving

4th Bitcoin Halving का माइनर्स पर प्रभाव: चुनौतियां और अवसर |

चौथे Bitcoin Halving घटना ने माइनर्स के लिए इसके प्रभाव पर चर्चा और अनुमानों को